Breaking News
Home / मनोरंजन

मनोरंजन

Et ullamcorper sollicitudin elit odio consequat mauris, wisi velit tortor semper vel feugiat dui, ultricies lacus. Congue mattis luctus, quam orci mi semper

शाहिद और श्रद्धा ने दिल्ली में किया ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ का प्रमोशन

दिल्ली शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर एवं यामी गौतम की मुख्य भूमिकाओं से सजी फिल्म ’बत्ती गुल मीटर चालू’ रिलीज के लिए तैयार है, लेकिन बेटे के जन्म के बाद से घर की

जिम्मेदारियों में शाहिद इस कदर उलझ गए थे कि वह इस फिल्म के प्रमोशन के लिए भी वक्त नहीं निकाल पा रहे थे। लेकिन, फिल्म की रिलीज डेट चूंकि सिर पर आ गई है, ऐसे में उन्हें फिल्म प्रमोट करने के लिए आगे आना ही पड़ा। इसी सिलसिले में अभिनेत्री श्रद्धा कपूर के साथ शाहिद कपूर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पहुंचे और यहां के पंचतारा होटल ली-मेरिडियन में मीडिया के बीच अपनी फिल्म का प्रमोशन किया। इस मौके पर दोनों ही कलाकार अपनी फिल्म को लेकर बहुत उत्साहित और आत्मविश्वास से भरे नजर आए। इसकी वजह यह भी है कि ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ ग्रामीण भारत में बिजली चोरी की कहानी पर बेस्ड फिल्म है।
मीडिया के साथ मुखातिब होते हुए दोनों कलाकारों ने बताया कि ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ श्री नारायण सिंह द्वारा निर्देशित फिल्म है, जिसे भूषण कुमार, निशांत पिट्टी और कृष्ण कुमार ने मिलकर बनाया है। फिल्म में शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर, दिव्येंद्र शर्मा और यामी गौतम प्रमुख भूमिकाओं में हैं।
टी-सीरीज फिल्म्स और कृति पिक्चर्स के बैनर के तहत विशेष रूप से प्रदर्शित यह फिल्म 21 सितंबर को रिलीज होने वाली है।

परिषदीय विद्यालयों के बच्चों की खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन

गौतमबुद्धनगर दनकौर ब्लॉक के परिषदीय विद्यालयों के बच्चों की खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन पूर्व माध्यमिक विद्यालय पीपलका सुरतपुर में किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बालमुकुंद प्रसाद ने सरस्वती की प्रतिमा के आगे दीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी जी व दनकौर के खंड शिक्षा अधिकारी नरेन्द्र पवार ने जूनियर वर्ग बालिका 100 मीटर दौड़ का फीता काट कर खेलों की शुरुवात की। जिसमे जुनेदपुर पूर्व

माध्यमिक विद्यालय की नेहा नागर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। मंच संचालन मनोज नागर और पम्मी मालिक और सत्यवीर नागर ने किया। इसके बाद अन्य खेल 200 मीटर दौड़ 400 मीटर दौड़ खो खो कबड्डी गोला फेंक तश्तरी फेक लंबी कूद उची कूद कुश्ती आदि विधिवत कराए गए। पीपलका प्राइमरी की टीम बालक कबड्डी में चैंपियन रही जबकि जूनियर में मुर्षदपुर की टीम जीती। बालिका जूनियर में सलेमपुर गुर्जर की टीम ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। पीपलका स्कूल के सुमित हर्ष रिया देवेन्द्र शांतनु आदि ने पदक जीते। जीतने वाले सभी बच्चो को पदक एवं प्रशस्ति पत्र दिया गया। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जी ने बताया कि बच्चो को पढ़ाई के साथ साथ खेल प्रतियोगिताओं पर भी ध्यान देना चाहिए खेल से बच्चो का सर्वांगीण विकास होता है पूर्व माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक सुखपाल सिंह व डॉक्टर रविन्द्र नागर निर्मला सिंह ज्योति शिवानी संजय नरेंद्री पुनीत कुमार ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को स्मृति चिन्ह भेंट किया। इस अवसर पर मेघराज भाटी संतोष नागर निरंजन नागर मुनीराम भाटी बलराम सुरेन्द्र तोंगड विनोद नागर अशोक यादव जिला व्यायाम शिक्षक सतीश नागर कुलदीप नागर प्रवीण शर्मा अशोक कुमार एबीआरसी उमेश राठी कुसुम कोसिक रामकुमार अनिल कुमार देवेन्द्र यादव पदम सिंह भगवत सिंह प्रमोद शर्मा सतीश नागर विनीत शौकत कपिल भाटी भूपेंद्र संजीव शर्मा दिशा चौधरी स्वेता सीमा भारती श्रीवास्तव रश्मि त्रिपाठी अर्चना आभा पांडेय आदि उपस्थित रहे।

जब आप लेखक कवियों के बीच बैठते हो वहां का पूरा माहौल सूफियाना हो जाता है – संदीप मारवाह

साहित्य से बेहतर कोई साथी नही
किसी विषय पर कविता लिखना आसान है पर अपनी रोज़मर्रा की बातों को कविता में ढालना बड़ा ही मुश्किल है, क्योकि अपने आपको कविता में ढालना स्वयं का मंथन है। मेरी कल्पना है की असली और संवेदनशील कविता लोगो तक पहुंचे। किसी बहुत बड़ी बात को कविता के रूप में तीन चार पंक्तियों में कह जाना बस वही कवि है, यह कहना था कवि और लेखक लक्ष्मी शंकर वाजपेयी का जो मारवाह स्टूडियो में चल रहे ग्लोबल लिटरेरी फेस्टिवल के अंतिम दिन पंहुचे। इस अवसर पर लेखिका और फिल्म डायरेक्टर डॉ. लवलीन थडानी, कथक नृत्यांगना शोवना नारायण, डॉ. मृदुला टंडन और लेखक अनूप बोस उपस्थित हुए। इस अवसर पर लवलीन थडानी की पुस्तक ‘माय सोल फ्लॉवर’ का विमोचन किया गया, उन्होंने कहा की मेरी पुस्तक मेरे ह्रदय को छूती हुई है इसमें आम भाषा की कविता आपको मिलेंगी, जहाँ तक हमारे साहित्य की बात है तो साहित्य समाज का दपर्ण ही नहीं बल्कि सबसे अच्छा साथी है क्योंकि साहित्य का अपना कोई स्वार्थ नहीं होता और भारत का साहित्य, ज्ञान, वेद व पुराण महान है और विश्व ने जो तरक्की की है वह हमारे वेद पुराणों की ही देन है। 

इस अवसर पर संदीप मारवाह ने कहा की जब आप लेखक  कवियों के बीच बैठते हो की वहां का पूरा माहौल सूफियाना हो जाता है और जहाँ तक लक्ष्मी शंकर की बात है उनका एक एक शब्द न जाने कितनी कविता कहानी कह जाता है। आज समारोह के अंतिम दिन में कह सकता हूँ की हमने इन तीन दिनों में वो सब सुना है जो हम कभी भूल नहीं पाएंगे और यह हमारी पूरी ज़िन्दगी काम आएगा। 
शोवना नारायण ने बताया की नृत्य की जो भाव भंगिमा होती है वह अपने आप में बहुत कुछ कह जाती है जो शब्द नहीं कह पाते और जो इसके संगीत और भाव को समझ सकता है वह कुछ भी कर सकता है। 
संदीप मारवाह ने अंत में कहा की आज की इस भागती दौड़ती जिंदगी में हम अपने साहित्य से दूर होते जा रहे हैं, इसलिए मैं अपने छात्रों से यही कहना चाहता हूं कि पढ़ो मेहनत करो कर्म करो लेकिन अपनी अच्छी सोच के साथ ताकि अपने आस पास एक अच्छे समाज का निर्माण कर सको और एक अच्छा समाज बेहतर देश का निर्माण करेगा। कार्यक्रम के अंत में कथक नृत्यांगना शोवना नारायण ने लवलीन थडानी की कविता पर नृत्य प्रस्तुत किया। 

प्रेडटर को देखकर सबकी रूह कांप जाएगी : शेन ब्लैक

Delhi‘दि प्रेडटर’ के जरिये लेखक/निर्देशक शेन ब्लैक को उस दुनिया में लौटते हुए देखना वाकई रोमांचक होगा, जिसने पहली बार 1987 में एक अभिनेता के रूप में इसका अनुभव किया था। इस नई फिल्म में वह विदेशी शिकारियों और मनुष्यों की कहानी का विस्तार के साथ नवीन अन्वेषण कर रहे हैं, जिसमें उन्हें भयंकर खतरे का सामना भी करना पड़ता है। शेन ब्लैक एक अनुभवी फिल्म निर्माता हैं, जिन्होंने ‘लेथल आर्म्स’, ‘द लास्ट बॉय स्काउट’ और ‘द लॉन्ग किस गुडनाइट’ जैसी यादगार फिल्मों के लेखक होने के अलावा ‘किस किस बैंग बैंग’ और ‘आयरन मैन’ जैसी फिल्में भी बनाई हैं। बहुत जल्द उनके डायरेक्शन से सजी फिल्म ‘द प्रिडेटर’ रिलीज होनेवाली है।

आपको ‘दि प्रेडटर’ की दुनिया में किसने वापस लाया? के सवाल में उनका कहना है कि ‘ऐसी कई चीजें थीं, जो आकर्षक थीं। सह-लेखक फ्रेड डेकर के साथ काम करने का मौका मिल रहा था, जिनके साथ मेरा 30 साल या उससे भी कहीं अधिक पुराना रिश्ता है। हमने पहले एक साथ काम किया है और यह दुबारा कॉलेज के दिनों की ओर लौटने जैसा लग रहा है। क्योंकि इतने दिनों के बाद हम एक सर्वश्रेष्ठ फिल्म बनाने के लिए एक साथ आए हैं।’ यानी शेन ब्लैक की नजी में ‘दि प्रेडटर’ अपने आप में एक अनूठी फिल्म है, लेकिन इस फिल्म में खास बात क्या है, जो इसे पिछली फिल्मों से अलग बनाती है? पूछने पवर शेन कहते हैं, ‘हॉलीवुड की सुपरहिट फ्रेंचाइजी ’प्रेडटर’ का जब भी कोई पार्ट आता है, बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा जाता है। ‘दि प्रेडटर’ के इस चौथे पार्ट में हर वह मसाला है जो सिनेप्रेमियों को बांधकर रखने का काम करता है। इसमें कमाल का एक्शन है और इसमें नजर आने वाले प्रेडटर को देखकर तो रूह कांप जाएगी। इस बार न सिर्फ प्रेडटर इंसानों को निशाना बना रहे हैं, बल्कि वे आपस में भी टकरा रहे हैं। इसमें दिखाया जाएगा कि अंतरिक्ष से धरती के छोटे-छोटे इलाकों की सड़कों तक ब्रह्मांड के सबसे घातक शिकारी फिर से हमला बोल देंगे, जो कि अब तक की ‘प्रेडटर’ सीरीज के सबसे अधिक मजबूत, स्मार्ट और घातक हो गए हैं। इन शिकारियों ने अपने आपको इस बार काफी ज्यादा अपग्रेड भी कर लिया है।’ अपनी फिल्म ‘दि प्रेडटर’ की कहानी के बारे में शेन बताते हैं, ‘दि प्रेडटर’ की कहानी छोटे बच्चे की है, जो गलती से ऐसा बटन दबा देता है, जिससे प्रेडटर्स को धरती पर लौटने का सिग्नल मिल जाता है। इसके बाद एक के बाद खतरनाक प्रेडटर धरती पर आने लगते हैं। लेकिन इस बार प्रेडटर ने अपने डीएनए को अन्य एलियंस के डीएनए के जरिये और भी रिच कर लिया है। इस खतरे को रोकने का दम सिर्फ कुछ पूर्व सैनिक और एक साइंस टीचर ही रखते हैं। इस तरह हर कोई प्रेडटर का शिकार है, लेकिन इन जांबाजों की टीम को उन्हें ठिकाने लगा देता है। ‘द प्रेडटर’ में बॉयड होलब्रूक, ट्रेवेंते रॉड्स, जैकब ट्रेम्बले, कीगन-माइकल की, ओलिविया मन, स्टर्लिंग के ब्राउन और एल्फी एलन लीड रोल में हैं। फिल्म की शूटिंग जून 2017 में पूरी हुई थी और यह अमेरिका और भारत में 14 सितंबर को रिलीज होने जा रही है।’

अब देखना यह है कि पूर्व सैनिकों का एक दल और एक वैज्ञानिक मिलकर मानव जाति के अंत को रोक पाएंगे या नहीं। बता दें कि इस सीरीज की पहली ‘प्रेडटर’ 1987 में आई थी, और इसमें अरनॉल्ड श्वार्जेनेगर लीड रोल में थे। उस फिल्म ने दुनिया भर में तहलका मचा दिया था।

नई सदी का नया नाम लक्ष्य नरूला

मुंबई 32 देशों में भ्रमण करने के बाद मुंबई आने पर लक्ष्य नरूला को एक निजी चैनल ले होस्ट करने के लिए साइन किया है
लक्ष्य नरूला एक कंप्यूटर इंजीनियर है जिनका परिवार दिल्ली से तालुकात रखता है नरूला उभरता हुआ एक नया चेहरा जो फिल्म इंडस्ट्रीज में अपनी किस्मत आजमाने के लिए कदम रखा है देखना यह है कंप्यूटर की शिक्षा प्राप्त करने के बादफिल्म इंडस्ट्रीज में कहां तक कामयाबी पाते हैं

उन्हें देश की जनता कितना प्यार देगी और उनकी मंजिल तक कहां तक उन्हें ले जाएगी इस बात की जानकारी अरुण नरूला ने दी

‘मनमर्जियां’ के कलाकारों ने छात्रों को मंत्रमुग्ध किया!

गौतमबुद्ध नगर गलगोटिया यूनिवर्सिटी में प्रमोशन के दौरान ‘मनमर्जियां’ के कलाकारों ने छात्रों को मंत्रमुग्ध किया!
रोमांटिक कॉमेडी-ड्रामा फिल्म ‘मनमर्जियां’ इसी 14 सितंबर को रिलीज करने के लिए तैयार है। ऐसे में इसके स्टार कलाकार अभिषेक बच्चन, विक्की कौशल, तापसी पन्नू ने अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। इसी क्रम में ये सितारे गौतम बुद्ध नगर के गलगोटिया विश्वविद्यालय में फिल्म का प्रमोशन करने पहुंचे, जहां जमीं पर उतरे बॉलीवुड सितारों की एक झलक पाने के लिए वहां मौजूद छात्रों में होड़ मची रही।

प्रमोशन के दौरान फिल्मकार आनंद एल राय भी उपस्थित थे। फिल्म के तीनों कलाकार अभिषेक, तापसी और विक्की अपनी इस फिल्म को लेकर बहुत उत्साहित और आत्मविश्वास से भरे दिखे। बता दें कि कनिका ढिल्लों द्वारा लिखित यह फिल्म संयुक्त रूप से फैंटम फिल्म्स और आयनंद एल. राय के कलर येलो प्रोडक्शंस द्वारा बनाई गई है।
फिल्म का साउंडट्रैक की रचना अमित त्रिवेदी ने की है, जबकि गीत शैली और सिकंदर खलोन ने लिखे हैं। इस अनूठी प्रेम कहानी की अधिकांश शूटिंग पंजाब, जबकि फिल्म के कुछ हिस्सों की शूटिंग दिल्ली और कश्मीर में की गई है।