Breaking News
Home / एनसीआर / बुराड़ी सामूहिक फांसीकांड का राज अब साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी या मनोवैज्ञानिक परीक्षण से रहस्य सुलझाने के लिए दिल्ली पुलिस लेगी सहारा

बुराड़ी सामूहिक फांसीकांड का राज अब साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी या मनोवैज्ञानिक परीक्षण से रहस्य सुलझाने के लिए दिल्ली पुलिस लेगी सहारा

11 अंक से जुड़े ये अजीब इत्तेफाक
बुराड़ी कांड का FIR नंबर 308 है, जिसका कुल योग 3+0+8= 11 है.बुराड़ी कांड जिस घर में हुआ उस घर का नंबर 137 है, जिसका कुल योग 1+3+7= 11 बैठता है.जब बुराड़ी कांड हुआ इस साल यानी 2018, जिसका भी कुल योग 2+0+1+8= 11 ही है.11 मौतों से जुड़ा 11 अंक और लगातार आ रही 11 की थ्योरी से लोग ही नहीं पुलिस भी हैरान है. घर के आस-पास रहने वाले लोग भी अब इस घर से बाहर आने वाली 11 नंबर की थ्योरी से डरने लगे हैं.बुराड़ी कांड में एक ही परिवार के 11 लोग एक ही रात में एक साथ मौत के आगोश में समा गए. शुरुआती जांच में घर से बरामद रजिस्टर में चौंकाने वाली बातें सामने आनी शुरू हुईं. फिर 11 मौतों के पीछे घर की दीवार से बाहर निकले 11 पाइप और 11 खिड़कियों की बात सामने आई, जिसे देखने के लिए एक तरफ जहां लोगों की भीड़ जुटी. वहीं, पुलिस ने भी इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश की.परिवार के 11 सदस्यों की मौत के रहस्य का पता लगाने में जुटी दिल्ली पुलिस ने उन राजमिस्त्री और कर्मचारियों से पूछताछ की जिन्होंने घर में 11 पाइप लगाए थे. 11 पाइपों के बाद अब 11 अंक की चौकाने वाली नई थ्योरी सामने आ रही है.
मामले की साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी कराएगी साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी में यह देखा जाता है कि व्यक्ति अपनी मृत्यु से पहले किस मनोदशा में रहा होगा. मानव व्यवहार एवं संबद्ध विज्ञान संस्थान (इबहास) के निदेशक निमेष देसाई ने शनिवार को कहा कि बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत के मामले में सामने आ रही दो तरह की बातों को अलग-अलग देखने की बजाय मिलाकर देखा जाना चाहिए.
गौरतलब है कि बुराड़ीकांड में एक संभावना यह जताई गई है कि मृतकों ने आध्यात्मिक विश्वास के वशीभूत होकर खुदकुशी की होगी. दूसरी संभावना यह जाहिर की जा रही है कि मृतकों ने मनोवैज्ञानिक विकार के कारण आत्महत्या की होगी.
दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी कांड में एक जुलाई को मृत पाए गए 11 लोगों की मनोवैज्ञानिक ऑटोप्सी कराने का फैसला किया है. इस बारे में देसाई ने कहा कि ऐसा करना काफी मुश्किल होगा क्योंकि उस मकान में रह रहे परिवार का कोई सदस्य जीवित नहीं बचा.
इस मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच हर पहलू को जांच लेना चाहती है. यही वजह है कि पुलिस अभी तक इस केस के सिलसिले में 130 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है. जिनमें रिश्तेदार, पड़ोसी और मृतका प्रियंका का मंगेतर सुमित भी शामिल है. पुलिस के मुताबिक प्रियंका ने अपने मंगेतर सुमित को इस बारे में कभी कुछ नहीं बताया था.

About admin

Check Also

नॉलेज पार्क-ll स्थित यूनाइटेड कॉलिज में फटा हुआ राष्ट्रीय ध्वज फहराने पर कॉलिज के खिलाफ सम्बंधित कोतवाली में शिकायत पत्र देकर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की।

Share this on WhatsAppयूनाइटेड कॉलिज में फटा हुआ राष्ट्रीय ध्वज फहरने पर करप्शन फ्री इंडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *